Tuesday, March 27, 2018

मीडिया मांगे मोर


टीवी चैनलों पर सफलतापूर्वक गरमागरम खबरों का स्टाल लगा चुकने के बाद नयी खबर की तलाश में पाँच मीडिया मेन जंगल से गुजर रहे थे. वे जानते हैं कि जंगल सिर्फ गुजरने के लिए होता है. दिल्ली में रहने के लिए रुकना हो तो जंगल से गुजरना पड़ता है. जंगल दिल्ली के भरोसे है. मीडिया जंगल को दिल्ली से और दिल्ली को जंगल से डराता है. दिल्ली में मीडिया जंगल का टायगर है और जंगल में दिल्ली वाला शौकीन शिकारी. यही कारण है कि दिल्ली और जंगल दोनों मीडिया से डरते हैं. मीडिया जंगल से मुद्दों की शहद लेता है और दिल्ली से सबसिडी वाली दारू. दिन की शरुआत के लिए शहद और समापन के लिए दारू जरूरी है.
हाँ, तो किस्सा ये है कि पाँच मीडिया मेन जंगल से गुजर रहे थे. पाँच में से चार अलग अलग फन में माहिर हैं. चारों के पास एक से बढ़कर एक हुनर हैं. एक तिल को ताड़ बना देने में सिद्धहस्त है, दूसरा लोटे में हाथी घुसा देने में उस्ताद. तीसरा बातों-बातों में पानी में आगआग लगा सकता है तो चौथा मुर्दे से बयान लिखवा लेता है. पाँचवा जूनियर है सीख रहा है. फिलहाल खबरों को चीख-चीख कर बेचने का अभ्यास कर रहा है. नाम है साहित्य कुमार .
आप लोग चौंकिए  मत. पापी पेट के लिए और दिल्ली में बने रहने के लिए कुछ न कुछ यानी सबकुछ सभी को करना पड़ता है. दिन चढ़ा, जंगल थमने सा लगा, पंछी पेड़ों  पर बैठ गये, जानवर झाड़ियों में फैल गये. जैसा कि पहले से ही तय था ये पाँचों भी विश्राम करने लगे. विश्राम करने का मतलब कहीं बैठ जाना या लेट जाना भर नहीं है. यहाँ विश्राम का मतलब बियर की बोतलें गटकना है.
”यहाँ जंगल में पीने के पानी की कमी है.“ पहले ने बीयर की दूसरी बोतल खोलते हुए कहा.
”हाँ, मैं इस पर एक स्टोरी कर रहा हूँ ‘जल बिन जंगल“. दूसरे ने जवाब दिया. ”पेड़ों पर फल नहीं दिख रहे हैं... जरूर यहाँ बंदर हैं.“ तीसरा बोला. 
”तुम इस पर कुछ मत करना, मैंने रिपोर्ट तैयार कर ली हैµ‘लंगूर खा गए अंगूर.“ चौथे  ने चेतावनी दी.
”कोई बंदर फल खाते दिखा आपको.“ साहित्य कुमार  यानी जूनियर ने पूछा.
”बस... बंदर ही नहीं दिखा...“
”जब बंदर ही नहीं दिखा तो कैसे कहोगे कि फल उसने खाये हैं.“ 
”तुम अभी जूनियर हो यार, थोड़ा सीखो, समझो. देखे तो हमने साँप हैं लेकिन फल साँप ने तो खाये नहीं होंगे.
”ठीक है, लेकिन बंदरों ने खाये हैं  ये कैसे कहा जा सकता है.“ जूनियर को समझ में नहीं आया.
”क्या तुम जानते हो कि बंदर फल खाते हैं.“
”हाँ खाते हैं.“
”दुनिया भी यही जानती है?“
”हाँ.“
”पेड़ों पर फल नहीं हैं, बंदर फल खाते हैं,...,. चलो इसके आगे का वाक्य बनाओ.“
”इसके आगे... भूखे बंदर चले गये जंगल छोड़कर.“ जूनियर ने वाक्य पूरा किया. 
”एई!! तेरे को बंदर तनख्वाह देता है क्या .“
”नहीं.“
”तो?, तनख्वाह दिल्ली से और तरफदारी जंगल की. ये कैसे हो सकता है?“
”फल नहीं है. पानी नहीं है... छोड़ो यार इन बकवासों को.“ पहले ने हस्तक्षेप किया.
”एक बात नोट की? यहाँ कितनी शांति है.“ जूनियर ने भी बात बदली.
”शांति खबर नहीं होती. शांति मीडिया के लिए जहर है.“ दूसरा सीनियर बोला. 
”लेकिन शांति जंगल की सच्चाई है.“
”तो ये भी सच्चाई है कि इस देश में शांति के प्रायोजक नहीं मिलते हैं,... और हम दिल्ली और जंगल से ज्यादा प्रायोजकों के प्रति जिम्मेदार हैं.“
”हाँ, प्रायोजकों को खबर चाहिए. खबर नहीं हो तो खबर पैदा करना हमारा पहला काम है. खबरें हमारी रोजी-रोटी हैं.“ दूसरे सीनियर ने समर्थन करते हुए आँख मारी.
”नहीं यार, प्रायोजकों को बिकाउ खबरें चाहिए. हमारा महत्वपूर्ण काम है खबरों को बिकाऊ बनाना.“ तीसरे ने कहा.
”अहा. कितनी शांति है जंगल में... यहाँ कोई खबर नहीं है.“ जूनियर आँख बंद करते हुए कहा.
”क्या कहा. तुम व्यंग्य कस रहे हो हम पर? अपने प्रोफेशन पर?...तुम साहित्य  मेन हो. मीडिया मेन बनने कैसे चले आये. मिस फिट कहीं के.“ साथी नाराज हुए. 
”व्यंग्य नहीं है. सचमुच... कितना आनंद है. कितना सुखद है! अहा!“
”बी .... अ   प्रोफशनल. शांति का आनंद लेने से कुछ नहीं मिलेगा, हमें खबर चाहिए.“
”मुझे नहीं लगता कि इस शांति में हमें कोई खबर मिल सकेगी.“ जूनियर अपने आनंद से बाहर आने के लिए तैयार नहीं हुआ.
”अगर इस जंगल में हमें एक लाश मिल जाये तो बढ़िया कलेक्शन देने वाली बिकाऊ खबर मिल सकती है.“ सीनियर ने संभावना के साथ अपने साथियों को देखा. साथियों ने संभावना तवज्जोह दी.
टीवी पर पहला  दिन/दिनभर
‘जूनियर की गई जान’
”जी सीनियर, आप हमारे दर्शकों को बताएं कि उस रात क्या हुआ था जंगल में. वह ब्योरा दें जिसमें हमारे साथी साहित्य को जान से हाथ धोना पड़ा.“
”उस दिन हम जंगल से गुजर रहे थे, भटकते हुए रात हो गयी... अंधेरा हो गया... तब... फिर... चूंकि... किन्तु... अचानक... चीख... संघर्ष... सन्नाटा... मौत... भय... और... और सब खत्म हो गया... साहित्य नहीं रहा.“
टीवी पर दूसरा दिन/दिनभर
‘मातम का माहौल’
”मैं आपके टीवी पर पाप-प्रतीक कसाई, जूनियर के घर से बोल रहा हूँ. आप देख रहे हैं जूनियर के घर पर मातम का माहौल है. जूनियर की माँ का रो-रोकर बुरा हाल है, पता चला है कि उन्होंने जब से सुना है कुछ भी खाया-पीया नहीं है. आइये उनसे बात करते हैंµ माता जी... माता जी, हमारे दर्शकों को ये बताइये कि जब आपको जूनियर की मौत का समाचार मिला तो आपको कैसा लगा?... अच्छा रोइये मत... आप यह बताइये कि इस समय आपको कैसा लग रहा... आप टीवी पर हैं... माताजी.“

टीवी पर तीसरा दिन/दिनभर
‘परेशान हुई पुलिस’
पुलिस को जूनियर के हत्यारों का पता नहीं पड़ा. पैरों के निशान नहीं मिले हत्यारे कितनी संख्या में थे, कैसे आये थे,... पता नहीं चल रहा है.
आई जी पुलिस हमारे साथ हैं, उनका कहना है... ”हम कोशिश कर रहे हैं. सबूत इकट्ठा करने के प्रयास किये जा रहे हैं. जंगल में शायद डाकुओं का नया दल सक्रिय हो गया है. हम पता कर रहे हैं. मीडिया हमारी  पूरी मदद कर रहा है. जनता को भी यदि कोई जानकारी हो तो उसे भी पुलिस की मदद करना चाहिए.“
टीवी पर चौथा दिन/दिनभर
‘ग्रामीणों की गवाही’
”गाँव वालाजी, आप क्या जानते हैं जूनियर की हत्या के बारे में“
मुस्कराते हुएµ ”क्या है साब कि हमको तो पता नईं हे कुछ भी. हम तो जंगल में जाते-ई-नी हें, ना हमारे बच्चे लोग जाते हैं, ना औरतें जाती हैं.आजकल तो घर में-ई  कन्ना पड़ती हे. गोरमेंट का कानून हे कि कोई बाहेर नई करेगा. “
”क्यों नहीं जाते आप लोग जंगल में.“
”ये भूतहा जंगल है. भूत-प्रेत रेते हें इसमें. हत्यारा जंगल बोलते हें इसको.“
”कभी भूत देखे हैं आपने“
”हाँ, कई बार देखे हैं.“
”कैसे होते है भूत.“
”आपके-हमारे जेसे होते हें साब. कभी पास से नईं देखा.“
टीवी पर पाँचवाँ दिन/दिनभर
‘पकड़े जाएंगे प्रेत’
”आज हमारे सामने है पूर्वी भारत के सबसे प्रसिद्ध तांत्रिक काले बादशाह बाबा बंगाली. दर्शकों को बता दें कि काले बादशाह बाबा बंगाली को हम सबसे पहले आपके सामने ला रहे हैं. ...बाबा लोगों को लगता है कि जूनियर की हत्या प्रेतों ने की है... क्या ये सही हो सकता है.“ 
”हाँ, यह सही है... हम जल्दी ही उन प्रेतों का बोतल में बंद कर देंगे?“
”आप कब तक यह काम कर देंगे.“
”पाँच दिन पहले अमावस्या की काली रात थी तब प्रेतों ने जूनियर को मारा. अब वे अगली अमावस्या को फिर बाहर आएंगे... तब हम उन्हें पकड़ने में सफल होंगे.“
”क्या आपने पहले भी ऐसे प्रेतों को पकड़ा है.“
”कई बार... विदेशों में भी... पाताल से...“

टीवी पर छठा दिन/दिनभर
‘कमाल के कजरारे-कजरारे’
फिल्म फेस्टिवल की जोरदार तैयारियां...सितारे उतरेंगे जमीं पर... रात होगी रंगीन... ऐश्वर्या और अभिषेक पेश करेंगे कजरारे-कजरारे... पुलिस ने किये पुख्ता इंतजाम... मेटल डिटेक्टर से होकर गुजरना होगा वीआइपियों को भी... इंतजाम में सेना को भी लगाये जाने की संभावना... आप कहीं मत जाइये... देखते रहिये सिर पीटने तक.

Tuesday, March 6, 2018

कुमार अम्बुज की कविता

   जिसे ढहाया न जा सका











#जिसे##ढहाया##नहीं##जा##सका#

तुम मूर्ति ढहाते हो और इस तरह याद करते हो
                                        कि वह जीवित है

जिसे तुमने सचमुच मार ही दिया था
वह अब भी मुस्कराता है तुम्हारे सामने की दीवार पर
तुम्हारे छापेखाने उसीकी तस्वीर छापते हैं
तुम दूसरे द्वीप में भी जाते हो तो लोग तुमसे पहले
उसकी कुशलता के बारे में पूछते हैं
                                     तब तुम्हें भी लगता है
कि दरअसल तुम मर चुके हो और वह जिंदा है
बुदबुदाते हुए हो सकता है तुम मन में गाली देते हो
लेकिन हाथ जोड़कर फूल चढ़ाते हो
                                  और फोटू खिंचाते हो
तुम शपथ लेते हो वह सामने हाथ उठाये मुसकराता  है
तुम झूठ बोलते हो वह तुम्हारे आड़े आ जाता है
घोषणापत्र में तुम विवश उसीकी बातें दोहराते हो

मूर्ति ढहाने से सिर्फ मूर्ति ढहती है
और बचे रहते हैं सारे शब्द, स्मृति, आवाज,
            उन्हीं चौराहों पर तने खड़े रहते हैं विचार

फिर सारे सवाल मूर्ति के बारे में होने लगते हैं
बार-बार तस्वीरें दिखाई जाती हैं उसी मूर्ति की
उस जगह पर इकट्ठा होने लगते हैं तमाम पर्यटक
जिन्हें बताया जाता है कि यहाँ, यहीं, हाँ, इसी जगह,
वह मूर्ति थी।
000

Friday, February 16, 2018

एक खिड़की जो लेखकों की दुनिया में खुलती है.

 लोग लेखकों के बारे में जानना चाहते हैं, उनमें यह जानने की जिज्ञासा बनी रहती हैं कि उनका प्रिय लेखक अपने निजी जीवन में कैसा है ? उसका खानपान, रहन सहन, आदतें, सनक ही नहीं उसके रिश्ते, परिवार, जिम्मेदारियों में उसकी पहल, उसके जीवन से जुड़ी घटनाएँ, दुःख -  तकलीफ आदि सब कुछ वह जानना चाहता है. हर लेखक अपने आप में अलग है, कोई खड़े हो कर लिखता है तो कोई लेट कर, किसी को एकांत चाहिए तो किसी को संगीतवह जानना चाहता है कि लेखक अपने को लिखने के लिए कैसे तैयार करता है.  लेखकों की आत्मकथाओं से वह बहुत कुछ जान भी जाता है. लेकिन आज के समय में बड़ी और मोटी किताबें पढने का समय हर किसी के पास नहीं है.  सूरज प्रकाश अपने पाठकों की इस दिक्कत को ध्यान में रखते हुए अपनी इस पुस्तक में वह सब देने का प्रयास करते हैं जो पाठकों की जिज्ञासा शांत करने के लिए जरुरी है. सूरज प्रकाश हिंदी साहित्य का एक जाना माना नाम है, जिनके उपन्यास,कहानी संग्रह और कई अनुवाद व जीवनियाँ पाठको द्वारा सराही गयी हैं. वे संभवतः अकेले ऐसे रचनाकार हैं जो साहित्य की अनेक विधाओं में सामान कुशलता से सक्रीय हैं. यहाँ सूरज प्रकाश की नयी किताब ‘लेखकों की दुनिया’ की चर्चा है जो पुस्तक प्रेमियों के बीच बहुत लोकप्रिय हो रही है. ढाई सौ पृष्ठों में संकलित सामग्री तीन भागों में है, पहला - लेखकों की दुनिया अजब-गजब, दूसरा - लेखकों की दुनिया और दुनिया के लेखक,  और तीसरा है -  कुछ लेखकों के रोचक किस्से.  
‘लेखकों  की दुनिया’ में देश -विदेश के लगभग पचहत्तर लेखकों के बारे में रोचक जानकारी संकलित हैं. मसलन अमृतलाल नागर के घर में कानपुर था जहाँ बैठ कर वे लिखा करते थे. अगाथा क्रिस्टी कहानी का प्लाट सोचने के लिए टब में बैठ कर सेब कुतरा  करती थीं. अनेक लेखक कार में बैठ कर लिखा करते थे. बहुत से शब्द गिन कर लिखते थे, जैसे हजार शब्द प्रतिदिन. कहानीकार नानक सिंग, राजेन्द्र यादव, उपेन्द्रनाथ अश्क  और मोहन राकेश पहाड़ पर जा कर लिखते थे. वाल्टर स्कॉट घोड़े की पीठ पर बैठ कर कविता लिखते थे.अमृता प्रीतम रात के वक्त लिखती थीं ताकि कोई आवाज बाधक न बने. राही मासूम रजा शोर भरे माहौल में लिखना पसंद था. यही नहीं लेखकों के जीवन से जुडी अनेक शोधपरक जानकारियां इस किताब को बहुत मूल्यवान बना देती हैं. पाठको के लिए यह जानकारी विशिष्ट अवसरों पर उल्लेख कर संवाद को रोचक और सारवान बनाने में उपयोगी है. किताब साहित्य और लेखन के तमाम अनजाने पहलुओं से इस तरह परिचित कराती है कि हम लेखकों से एक तरह का जुडाव महसूस करने लगते हैं. कहा  जा सकता है कि हर पुस्तक प्रेमी की शेल्फ के लिए यह एक जरुरी किताब है. नये पाठकों के लिए यह मार्ग प्रशस्त करती है और पुराने पाठकों को अपने प्रिय लेखक का दोस्त बनती है. 
------


Sunday, December 24, 2017

कैलाश मंडलेकर को पहला ज्ञानचतुर्वेदी सम्मान / २३-१२-२०१७


कैलाश मंडलेकर जी से मेरा परिचय बहुत पुराना है, इतना कि खुद मुझे याद नहीं हम कब संपर्क मे आए। लेकिन यह पक्का है कि संपर्क की तह में व्यंग्य ही है। लेखकों की यारी/दुश्मनी में प्रायः पत्रपत्रिकाओं की भी भूमिका हो जाया करती है. हम लोग साथ साथ खूब छपे हैं. खंडवा वैसे तो संगीत प्रेमियों की यूडलिंग जगह है. यह देश का एक बड़ा रेलवे जंक्शन भी है. लोग खंडवा जाते न भी हों, पर उधर से गुजरते जरुर हैं. सीताफल और अमरुद की बहार के समय भी इंदौर के लोग उधर का रुख करने को तत्पर रहते हैं. बहुत से आकर्षणों के बीच अब कैलाश मंडलेकर भी एक वजह हैं खंडवा के जिक्र में. 
बायोडाटा से इतर देखें तो कैलाश भाई एक नरम और नेकदिल इन्सान हैं. मित्र लोग जानते हैं कि वे कभी किसी से नाराज नहीं होते हैं. वे अपनी नाराजी को केवल रचनात्मक ऊर्जा के लिए बचा कर रखते हैं. इसलिए कोई तल्खी, कोई गुस्सा अगर दीखता है तो उनकी रचनाओं में ही. कुव्यवस्था कहें, या व्यवस्था ही कह लें, उसके खिलाफ व्यंग्य मूल रूप से नाराजी का लेखन है. सब जानते हैं कि व्यंग्य प्रशस्ति या गान का लेखन नहीं है. लेकिन नाराज होने की जो अदा और अंदाज कैलाश जी के पास है वह बहुत कम लोगों के पास दिखाई देता है. दिक्कत हमारे समय की यह है कि व्यंग्यकार जिन पर कुपित होते हैं वे पट्ठे खुद उस कोप का मजा लेने लगते हैं. 
लेखक की जिम्मेदारी होती है कि वो उस अंतिम आदमी तक पहुंचे जिसको आगे कर अक्सर राजनैतिक गढ़ जीत लिए जाते हैं. बाद में उस अंतिम आदमी का क्या होता है, सब जानते हैं. यहाँ यह रेखांकित करना होगा कि कैलाश भाई अपनी रचनाओं में इस अंतिम आदमी को जीते हुए दिखाई देते है. इसका कारण यह है कि उन्होंने आमजन के दुःख और कष्टों को बहुत करीब से देखा है. उनकी नजर राजनैतिक और बुर्जुआ चालाकियों को बहुत शिद्दत के साथ पकडती है. और उनमे इतना सहस है कि वक्त जरुरत इनके कान खींचने से वे चूकते नहीं हैं. कहा जाता है कि समय बड़ा विकट है. लोगों का खाना-पीना, पहनना- न पहनना, टीवी-फिल्म वगैरह में क्या देखेंगे-सुनेंगे, क्या लिखना और पढ़ना है, सब परदे के पीछे से नियंत्रित और निर्देशित हो रहा है. लेखक भी कुछ कुछ सावधानी सी बरतने लगे हैं. बावजूद इसके कैलाश मंडलेकर के तेवर समझौते की जद से बाहरदिखाईदेते हैं. व्यंग्य की उनकी तेग दिल्लीभोपाल नहीं देखती और न ही स्थानीय स्तर के किसी खतरे को तवज्जोह देती है. यहाँ दोस्त भी मौजूद होंगे इसलिए यह स्पष्ट करना जरुरी है कि उक्त बातें कैलाश जी के लेखन की प्रशंसा में कही गयी हैं, न कि किन्हीं महकमों को उन पर छू लगाने के इरादे से बोली गयी हैं. 
कैलाश मंडलेकर स्वान्तः सुखाय या मात्र मजे लेने के लिए नहीं लिखते हैं, उनका लेखन उद्देश्यपूर्ण होता है. वे जिम्मेदारी के साथ लिखते हैं और बड़ी सहजता से पाठक को भी इस जिम्मेदारी में शामिल कर लेते है. यही वजह है कि उनके पास व्यंग्य का एक गंभीर पाठक वर्ग मौजूद है. कई बार पता चलता है कि लेखन में सफल व्यक्ति पारिवारिक मोर्चे पर उतने सफल नहीं हैं. हममे से कई तो लेखन की ओट में अपनी अन्य जिम्मेदारियों से बच भी लेते हैं. लेकिन जैसा मैंने देखा है और मैं जनता हूँ कैलाश भाई आरम्भ से ही पारिवारिक जिम्मेदारियों के प्रति बहुत गंभीर रहे हैं. बच्चों की शिक्षा-दीक्षा और पालन पोषण में उन्होंने कोई कोताही नहीं की है. 
 जैसा कि आप देख रहे हैं, मंडलेकर ऊँचे कद के आदमी हैं, इसमें खंडवा की दूध-जलेबी का योगदान भी है. लेकिन देखने वाले मानते हैं कि रिटायरमेंट के बाद से उनकी हाईट काफी बढ़ी है. बल्कि गौर करें तो पाएंगे कि उनकी हाईट हर हफ्ते बढ़ जाती है. खंडवा वाले बहुत जल्द कहने लगेंगे कि हमारे शहर में सबसे ऊँचा व्यंग्यकार है.
बात कुछ रचना प्रक्रिया की भी हो जाये. कैलाश भाई की रचना प्रक्रिया बहुत सरल है. ऍमफिल की एक शोधार्थी ने उनसे ऐसा ही कुछ सवाल किया तो उन्होंने कहा कि सुबह-सवेरे नहा-धो कर सबसे पहले मैं बेचैन हो लेता हूँ. शोधार्थी का तुरंत दूसरा वाजिब सवाल था कि -आप बेचैन होने के लिए क्या करते हैं ? न चाहते हुए भी कैलाश भाई को बताना पड़ा कि ‘किसी दूसरे व्यंग्यकार को फोन करता हूँ और पूछता हूँ कि “और क्या ? इन दिनों क्या कर रहे हैं ?”. अगर वह सच बताता है बेचैनी हो जाती है और झूठ बोले तो कुछ ज्यादा ही. राजधानी से तो अक्सर खबर आती है कि कोई किम जोंग और कोई ट्रम्फ के तेवर में है. व्यंग्यकार लोग उपन्यास बना रहे हैं, दाग रहे हैं ! छाती फोड़ बेचैनी के लिए इतना तो बहुत होता है. जवाबी उत्तेजना के तहत प्रदेश भर में कागज काले होने लगते हैं. पाठकों को डर इस बात का कि कहीं यह अफवाह न चल पड़े कि व्यंग्य के खां टुंडे कबाब खाने और खिलाने लखनऊ में डेरा डालें हैं तो प्रदेश भर में बाट जोह रही बेचैनी का क्या होगा !! शोधार्थी आसानी से कहाँ छोड़ते हैं, उसने आगे पूछा - कैलाश जी आप बेचैन होने में कितना वक्त लेते हैं ? इन्होने बताया- पहले जब रियाज अच्छी नहीं थी तो बेचैनी के मुजाहिरे में आधा पौना घंटा लग जाता था, लेकिन जब से अनुलोम विलोम साध लिया है फट्टदनी से बेचैनी तैयार हो जाती है. 
राजधानी में आज पहले ज्ञान चतुर्वेदी सम्मान से सम्मानित होना, उनका और उनके व्यंग्य लेखन का गौरव बढ़ाने वाला है. इसी तरह उनकी प्रशस्ति पताका निरंतर बुलंद होती रहे, इन्हीं मंगलकामनाओं के साथ हार्दिक बधाई.
------

Tuesday, August 15, 2017

श्री चंद्रकांत देवताले की तीन कवितायेँ



पुनर्जन्म

मैं रास्ते भूलता हूँ

और इसीलिए नए रास्ते मिलते हैं
मैं अपनी नींद से निकल कर प्रवेश करता हूँ
किसी और की नींद में
इस तरह पुनर्जन्म होता रहता है


एक जिंदगी में एक ही बार पैदा होना
और एक ही बार मरना
जिन लोगों को शोभा नहीं देता
मैं उन्हीं में से एक हूँ


फिर भी नक्शे पर 
जगहों को दिखाने की तरह ही होगा

मेरा जिंदगी के बारे में कुछ कहना
बहुत मुश्किल है बताना
कि प्रेम कहाँ था किन-किन रंगों में
और जहाँ नहीं था प्रेम उस वक्त वहाँ क्या था

पानी, नींद और अँधेरे के भीतर इतनी छायाएँ हैं

और आपस में प्राचीन दरख्तों की जड़ों की तरह
इतनी गुत्थम-गुत्था
कि एक दो को भी निकाल कर
हवा में नहीं दिखा सकता

जिस नदी में गोता लगाता हूँ

बाहर निकलने तक
या तो शहर बदल जाता है
या नदी के पानी का रंग
शाम कभी भी होने लगती है
और उनमें से एक भी दिखाई नहीं देता
जिनके कारण चमकता है
अकेलेपन का पत्थर



मैं आता रहूँगा तुम्हारे लिए 
मेरे होने के प्रगाढ़ अँधेरे को
पता नहीं कैसे जगमगा देती हो तुम

अपने देखने भर के करिश्मे से

कुछ तो है तुम्हारे भीतर

जिससे अपने बियाबान सन्नाटे को
तुम सितार सा बजा लेती हो समुद्र की छाती में

अपने असंभव आकाश में

तुम आजाद चिड़िया की तरह खेल रही हो
उसकी आवाज की परछाई के साथ
जो लगभग गूँगा है
और मैं कविता के बंदरगाह पर खड़ा
आँखे खोल रहा हूँ गहरी धुंध में

लगता है काल्पनिक खुशी का भी

अंत हो चुका है
पता नहीं कहाँ किस चट्टान पर बैठी
तुम फूलों को नोंच रही हो
मैं यहाँ दुःख की सूखी आँखों पर
पानी के छींटे मार रहा हूँ
हमारे बीच तितलियों का अभेद्य परदा है शायद

जो भी हो

मैं आता रहूँगा उजली रातों में
चंद्रमा को गिटार सा बजाऊँगा
तुम्हारे लिए
और वसंत के पूरे समय
वसंत को रुई की तरह धुनकता रहूँगा
तुम्हारे लिए


यमराज की दिशा 
माँ की ईश्वर से मुलाकात हुई या नहीं
कहना मुश्किल है

पर वह जताती थी
 जैसे ईश्वर से उसकी बातचीत होते रहती है
और उससे प्राप्त सलाहों के अनुसार
जिंदगी जीने और 
दुःख बर्दास्त करने का रास्ता खोज लेती है

माँ ने एक बार मुझसे कहा था 

दक्षिण की तरफ़ पैर कर के मत सोना
वह मृत्यु की दिशा है
और यमराज को क्रुद्ध करना
बुद्धिमानी की बात नही है


तब मैं छोटा था

और मैंने यमराज के घर का पता पूछा था
उसने बताया था
तुम जहाँ भी हो 
वहाँ से हमेशा दक्षिण में


माँ की समझाइश के बाद
दक्षिण दिशा में पैर करके मैं कभी नही सोया
और इससे इतना फायदा जरुर हुआ
दक्षिण दिशा पहचानने में
मुझे कभी मुश्किल का सामना नही करना पड़ा



मैं दक्षिण में दूर-दूर तक गया
और हमेशा मुझे माँ याद आई
दक्षिण को लाँघ लेना सम्भव नहीं था
होता छोर तक पहुँच पाना
तो यमराज का घर देख लेता



पर आज जिधर पैर करके सोओं
वही दक्षिण दिशा हो जाती है
सभी दिशाओं में यमराज के आलीशान महल हैं
और वे 
सभी में एक साथ
अपनी दहकती आखों सहित विराजते हैं



माँ अब नही है
और यमराज की दिशा भी अब वह नहीं रही
जो माँ जानती थी.

Tuesday, June 27, 2017

कवि माया मृग .......इस तरह पढ़ना दुख को !


इस तरह पढ़ना दुख को .........
दुख को जब भी पढ़ना- उलटा पढ़ना !
आखिरी पन्‍ने से शुरु करना
और शुरुआत का संबंध ढूंढ लेना
पहले पन्‍ने पर लिखे उपसंहार से
ये जानकर पढ़ना कि जो पढ़ा, उसे भूल जाना है----।

उलटे होते हैं दुख के दिन
रात भर खंगाले जाते हैं रोशनी भरे लम्‍हे
आंख बंद रखना अगर देखना है सब----।

दुख को फुनगी से काटना                                          पहली कोंपल का हरा सुख--पहला दुख है
पहला सुख निकालना होगा मिट्टी खोद खोदकर
जो दबा रह जाए उसे रहने देना
इसलिए कि इस दबे का ताल्‍लुक बढ़ने से नहीं है
जो दब गया उसे दबते जाना है---बस---।

उलटाकर देखना तकिए के नीचे रखी
पोस्‍ट ना की गई चिट्ठी
चिट्ठी के कागज को उलट कर देखना
कि कहां लिखा था कुछ जो पढ़ना था उसे
कितने शब्‍द उलटे पलटे पर कहां लिखी गई सीधी सी बात----।

दुख में उलटी चलती हैं घड़ियां
वक्‍त लौटता है हर बार पीछे
चादर को कोने से पकड़ना और उलट देना
रात भर जागे दुख को भनक ना लगे
यह उसके सुख के सपनों में सोने का वक्‍त है....!

प्रिंट मीडिया के ‘वन मैन सॉल्यूशन’ हैं यशवंत व्यास (फेम इंडिया-एशिया पोस्ट मीडिया सर्वे 2017)


यशवंत व्यास एक ऐसे पत्रकार हैं जिन्हें साहित्यकार, मीडिया आलोचक, सलाहकार, डिजाइनर और स्तंभकार सभी कुछ कहा जाता है। प्रिंट मीडिया की हर विधा में उन्हें महारत हासिल है और इसके पीछे उनका 30 से भी अधिक वर्षों का अनुभव काम करता है। कई मीडिया हाउस में संपादक व सलाहकार रहे यशवंत व्यास उन गिने-चुने पत्रकारों में शामिल हैं जो अखबार की डिजाइनिंग का भी अनुभव रखते हैं और अपने हिसाब से लेआउट बनवाने पर विश्वास करते हैं। फिलहाल वह अमर उजाला जैसे प्रतिष्ठित मीडिया समूह के सलाहकार संपादक हैं जो उत्तर भारत में अपने 20 संस्करणों के साथ अपनी विशेष पहचान रखता है।

1964 में मध्यप्रदेश में पैदा हुए यशवंत व्यास ने हाई स्कूल स्तर तक की पढ़ाई स्थानीय हायर सेकेंडरी स्कूल से की। इसके बाद गर्वमेंट कालेज रामपुरा से उन्होंने  बीएसी की पढ़ाई की। इंदौर के डीएवी यूनिवर्सिटी  से उन्होंने हिंदी लिटरेचर में एमए किया, वह गोल्ड मेडलिस्ट रहे और  लिटरेचर में पीएचडी की।

यशवंत व्यास से अपनी पत्रकारिता का आगाज नई दुनिया से 1984 में किया। यहां उन्होंने बतौर उप संपादक ज्वाइन किया था। नई दुनिया से उनका नाता 1995 तक रहा यानी अपने जीवन के शुरुआती 11 साल उन्होंने यहां बिताये। यहीं से उन्होंने सीखा कि एक कम्पलीट एडीटर को प्रोडक्शन -डिजाइनिंग का भी ज्ञान होना जरूरी है। उन्होंने दैनिक नवज्योति ग्रुप के साथ बतौर ग्रुप एडिटोरियल एडवाइजर 1996 से 1999 तक काम किया। सिंतबर 2000 से मार्च 2010 तक वे डीबीकार्प से जुड़े रहे, जहां  दैनिक भास्कर के एडीटर रहे। 2005 में उन्होंने अपने तरह की अलग और नये कलेवर वाली मैगजीन ‘अहा जिंदगी’ लांच की। यह पत्रिका हिंदी और गुजराती में थी, को काफी सराही गयी। उन्होंने इसे 1.5 लाख प्रिंट ऑर्डर के साथ लॉन्च किया जिसकी रीडरशिप 10.6 लाख से भी अधिक थी। अप्रैल 2010 से यशवंत व्यास अमर उजाला प्रकाशन लिमिटेड के समूह सलाहकार हैं।

यशवंत व्यास, आउटलुक और ओपन के संपादक रहे दिवंगत विनोद मेहता और प्रीतीश नंदी से काफी प्रभावित रहे हैं । उन्होंने इन संपादकों से सीखा है कि एक अच्छा कंटेंट , क्रेडिबलिटी और प्रेजेंटेशन से प्रभाव बदल सकता है।   कॉलम साइज से लेकर  तथ्यों और चित्रों की प्रस्तुति ,  विजुअलाइजेशन का ज़रूरी  हिस्सा है। यह सब उनके सभी  प्रयोगों और अमर उजाला के नये स्टाइल में भी शामिल है जो यशवंत व्यास की पारखी परख की देन है।  यशवंत को अपने शुरुआती कॅरियर के जमाने से ही कंटेंट के साथ-साथ लेआउट और डिजाइनिंग  उनके प्रयोगात्मक दृष्टिकोण के लिये जाना जाता है।वे बखूबी जानते हैं कि उपलब्ध संसा धनों और मौजूदा कर्मियों से बेहतर आउटपुट कैसे निकाला जाता है। यह एक लीडर की क्वॉलिटी है जो उनमें है। यशवंत व्यास को पता है कि सही जूते में ही जब सही पैर जायेगा तो संतुलन अपने-आप ही बन जायेगा। उनकी देखरेख में कई ब्रांडिंग कैंपेन बने जिन्हे  पाठकों ने  सराहा ।

साहित्य और पत्रकारिता में कैसे सामंजस्य होता है, इसका जवाब यशवंत व्यास की साहित्यिक रचनाओं से मिलता है। वे साहित्य को अभिव्यक्ति का एक माध्यम मानते हैं।  अब तक उनकी 11 किताबें आ चुकी हैं जो अलग-अलग फ्लेवर लिये हुए हैं।  यारी दुश्मनी, तथास्तु, रसभंग और नमस्कार सहित उनके कई लोकप्रिय कॉलम रहे हैं।

यशवंत व्यास कई किताबें लिख चुके हैं, जिनमें पत्रकारिता पर ‘अपने गिरेबान में’ और ‘कल की ताजा खबर’ प्रमुख मानी जाती हैं। उनके दो उपन्यास ‘चिंताघर’ और ‘कॉमरेड गोडसे’ पुरस्कृत हो चुके हैं। इसके साथ ही वे एक आला दर्जे के व्यंग्यकार भी है। उनके व्यंग्य संग्रह ‘जो सहमत हैं सुनें’, ‘इन दिनों प्रेम उर्फ लौट आओ नीलकमल’, ‘यारी दुश्मनी’ और ‘अब तक छप्पन’ को लोगों ने काफी सराहा है। उन्हें एक अलग पहचान दी उनके अमिताभ बच्चन के ब्रांड विश्लेषण पर लिखी किताब ‘अमिताभ का अ’ ने। साथ ही उनकी कॉरपोरेट मैनेजमेंट पर हिन्दी-अंग्रेजी में लिखी किताब ‘द बुक ऑफ रेज़र मैनेजमेंट-हिट उपदेश’ भी काफी पसंद की गयी।

उन्हें राष्ट्रीय पत्रकारिता फेलोशिप से सम्मानित किया जा चुका है। डिजिटल मीडिया में शुरुआत से  ही सक्रिय  रहे हैं।  साथ ही वह अंतरा इन्फोमीडिया के सह-संस्थापक हैं, जो मीडिया को समर्पित एक बहु-उद्देशीय संस्था है जो कई प्रकाशनों और  विशेष परियोजनाओं पर काम कर रही है। वह वरिष्ठ नागरिकों और नई पीढ़ी के बीच एक पुल बनाने के लिये एक विशेष परियोजना गुल्लक पर भी काम कर रहे हैं।  और कई अन्य प्रयोग भी उनके कामों की फेहरिस्त में शामिल हैं।  फेम इंडिया-एशिया पोस्ट मीडिया सर्वे 2017 में यशवंत व्यास को भारतीय प्रिंट मीडिया के एक प्रमुख सरताज के तौर पर पाया गया है।

Thursday, February 16, 2017

बिन गुरु ज्ञान न उपजै, गुरु बिन मिलै न मोक्ष

गुरुदेवों में सबसे पहले दीक्षित जी याद आते हैं, उम्र कोई चालीस पैंतालीस, कद काठी के मजबूत, देखने में सौम्य, रंग खूब गोरा कि अंग्रेज होने का भ्रम होता था, समय के पाबंद भी इतने कि समझ में नहीं आता था कि वे घड़ी से चलते हैं या घड़ी उनसे. सख्ती के मामले में किसी कसाई से कम नहीं थे, ठुकाई-पिटाई में उनका विश्वास उस काल के गुरुओं के अनुरूप था. घरों में ट्यूशन लगाने का चलन हो गया था. तो दीक्षित जी ट्यूशन पढाने आया करते थे. मै और मेरा भाई, यूँ समझिए कि न पढ़ने पर आमादा थे. स्कूल में मस्ती और उसके बाद पूरी आजादी के साथ मस्ती. जहाँ हमारा घर है उसे नवलखा कहा जाता है, लोग कहते हैं कि राजे रजवाडों के समय इस क्षेत्र में नौ लाख पेड़ हुआ करते थे. चारों तरफ प्राकृतिक वातावरण, जैसा कि आजकल फिल्मों में भी कम दिखाया जाता है. घर में पूजा-पाठ और ईश्वर पर आस्था का माहौल था. दीक्षित जी ढेर सारा होमवर्क देते थे जो हम प्रायः नहीं करते थे. शुरू शुरू में उन्होंने रूटीन की डांट -फटकर और थप्पड़ों से काम चलाया लेकिन जल्द ही मामले को दिल पर लेने लगे. देखने में उनके गोरे हाथ, लाली लिए हुए, बहुत कोमल और सुन्दर दीखते थे, लेकिन जब मारते थे तो लगता था कोई तीसरा हाथ भी है उनके पास. वे सजा देने की ऐसे ऐसे तरीके अपनाने लगे कि मुझे अब लगता है यदि वेसाइंस पढ़े होते तो उनके नाम कई अविष्कार अवश्य दर्ज होते. जब मारपीट का असर नहीं हुआ तो उन्होंने मुर्गा बनाने का संकल्प ले लिया. लेकिन जल्द ही मुर्गा बनने में हम दक्ष हो लिए. दस-पन्द्रह मिनिट में उनका धैर्य टूट जाता लेकिन हमारी हिम्मत कायम रहती. वे किसी दिन एक टांग पर खड़ा करते, कभी उठक बैठक आजमाते. डेढ़ महीने में वे मल्टीटास्क नीति अपनाने लगे. अब वे पढाने वाले गुरु कम फिजियोथेरेपिस्ट ज्यादा लगते थे. लेकिन बच्चे तो बच्चे होते हैं जी, कब तक दम भरते आखिर. घंटा भर की फिजियोथेरेपी भारी पडने लगी तो जवाबी कार्रवाई में उनके आते ही शौचालय में बंद हो कर अपनी रक्षा की. सोचा था यह एक दीर्ध कालीन योजना होगी किन्तु तीन चार दिनों बाद ही ये युक्ति बेअसर कर दी गई. आखिर जैसा कि अक्सर होता है, जब कहीं सम्भावना नहीं होती तो लोग ईश्वर की शरण हो लेते हैं. पता नहीं क्यों मुझे ईश्वर में बड़ा विश्वास था. मैंने ईश्वर के पास जा कर प्रार्थना की कि भगवान आज दीक्षित जी ना आयें. ठीक साढ़े चार बजे वे आ जाते थे, पौने पांच हो गए ! पांच हो गए, और उस दिन वे नहीं आये. अब हाल ये कि मेरे तो बस भगवानजी दूसरों न कोई . जैसे तुरुप का इक्का हाथ लग गया. दूसरे दिन साढ़े चार बजे फिर वही प्रार्थना. और उस दिन भी दीक्षित जी के दर्शन नहीं हुए. उत्साह में जबरदस्त इजाफा, मन में जो डर था वो गायब हुआ सा लगने लगा. तीसरे दिन भी साढ़े चार बजे और इधर प्रार्थना का शक्ति परिक्षण शुरू हुआ. लेकिन ये क्या !! दीक्षित जी हाजिर थे ! ईश्वर का ये मजाक मुझे पसंद नहीं आया. भगवान से कुछ नाराजी व्यक्त करते हुए आखिर कसाईवाडे में समर्पित होना पड़ा. दीक्षित जी ने दो दिन की कसर भी पूरी कर ली. उसके बाद कुछ रोज तक प्रार्थनाएं हुईं और जैसा कि होना था ईश्वर पर से मेरा विश्वास उठ गया.
बहुत समय बाद एक गुरुदेव मिसिर जी उत्तर प्रदेश से हमारे घर आये. नवलखा में ही एक सरकारी कालेज है, वहाँ उनकी नौकरी लगी थी, प्रोफ़ेसर हो कर आये थे. हमारा बड़ा परिवार, खूब जगह, आसपास खेत-बगीचे, रहने के लिए कई कमरे, बहुत से खाली, उन दिनों किराये से देने का चलन नहीं था. गुरुदेव ब्राह्मण, सो पूज्य भी. तीस-पैंतीस की उम्र, विनय पूर्वक उन्हें स्थान दिया, वे साथ ही रहने लगे. तीन घंटे कालेज में रह कर लौट आते. एक बड़ा कुँआ था जिस पर सुबह नहाते वे एक मन्त्र सा बोला करते थे  बम्म गौरा टन्न गणेश- पादे गौरा हँसे गणेश. सुन कर हम हँसते. उनके प्रोफ़ेसर होने का खौफ शीघ्र खत्म हो गया. मै मिडिल स्कूल पास हो गया था. गुरुदेव के साथ शतरंज खेलते, चर्चा करते दिन गुजर जाता.  हमारे घर में कुछ किताबें थीं, कन्हैया लाल माणिक लाल मुंशी, प्रेमचंद आदि की और चंद्रकांता संतति वगैरह भी जिन्हें थोड़ा बहुत पढ़ने का मौका मिल रहा था. मिसिरजी ने मेरी रूचि जान कर महेंद्र भल्ला एक उपन्यास दिया भोली-भाली. भारत-पाकिस्तान सीमा पर एक लड़की अनजाने में सीमा पर कर जाती है और लगातार मुसीबतों में पड़ती है. रोमांचक कहानी थी, हाल में हमने सबरजीत प्रसंग के रूप में इसे देखा है. भल्ला का उपन्यास दूसरी तरफ भी साप्ताहिक हिंदुस्तान में पढ़ा जो विदेशी जमीन पर भारतियों की स्थिति का चित्रण करता है. स्कूल में वार्षिक पत्रिका निकाली जाना थी. छात्रों से रचनाएँ आमंत्रित की गईं थीं. मिसिरजी से कहा कि कुछ बताएं कि कैसे लिखूं, कोई कविता या कोई लेख, कहानी कुछ. उन्होंने कुछ लिखवाया जो जमा नहीं. रचना देने की अंतिम तिथि पास आ रही थी तो किसी कालेज की पत्रिका देते हुए बोले ये लो इसमें से ये दो पेज की कहानी अपने हाथ से लिख कर देदो. उन्होंने बताया कि यह पत्रिका उत्तर प्रदेश की है, यहाँ कोई जान नहीं पायेगा, पूछे तो कहना कि मैंने ही लिखी है. कहानी मैंने जमा कर दी. कुछ दिनों बाद क्लास टीचर ने चलती कक्षा में पूछा कि ये कहानी तुमने लिखी है !? ये मजुमदार सर थे, और सख्त मिजाज थे. मैं डरा, लेकिन कहा कि जी हाँ मैंने लिखी है. इधर आओ, उनका आदेश हुआ. मुझे लगा चोरी पकड़ी गई है, अब शायद पिटाई भी हो सकती है. अपमान का डर, घिघ्घी सी बांध गई. बदन कांप रहा था. लेकिन पास गया तो उन्होंने शाबाशी दी, खूब पीठ ठोकी. लड़कों को कहा कि देखो इस लडके को. इसने इतनी अच्छी कहानी लिखी है. बोले बेटा तुममे बहुत प्रतिभा है. इसी तरह से लिखते रहो. एक दिन तुम बड़े लेखक बनोगे और अपने स्कूल का नाम रौशन करोगे. अब मेरे लिए एक विचित्र अनुभव की स्थिति थी. सच बोलना संभव नहीं था, उतने ही भारी पड़ रहे थे मजुमदार सर के आसीस. दीक्षित जी वाले प्रसंग के बाद पहली बार मुझे भगवान याद आने लगे. सिर झुकाए देख वे और प्रभावित हुए, बोले तुम बहुत विनम्र भी हो, ये अच्छी निशानी है. शाबाश, जाओ, बैठो .
शाम को मैंने यह बात ग्लानी के साथ मिसिर जी को बताई. वे खूब हँसे. बोले –“ ये बढ़िया हुआ. अब कोई कुछ नहीं बोलेगा.... देखो दुनिया ऐसे ही चलती है.
यों तो बात आई गई हो गई. लेकिन सख्त मिजाज मजुमदार सर जब भी मुझे देखते मुस्करा देते. उनकी मुस्कराहट से बचने के लिए मै कोशिश करता कि सामने ना पडूँ. लेकिन मौका आ ही  जाता. एक चोर अंदर ही अंदर मुझे खाए जा रहा था. आखिर एक दिन पत्रिका प्रकाशित हुई और मैंने उसे छुपा लिया, किसी को दिखाया नहीं. मिसिर जी को भी नहीं. वे भूल गए थे, लेकिन मैं नहीं भूल पा रहा था. मन में एक अपराध बोध घर कर गया था. मन बहुत होता कि कोई कहानी खुद लिखूं और चोरी के इस बोझ को उतर दूँ . पढ़ने के शौक में एक  बार मुझे पर्ल बक की किताब हाथ लगी. डायरी की तरह लिखी यह किताब मुझे अच्छी लगी और मैं भी डायरी लिखने लगा. पता नहीं चला कि शब्द कब डायरी से निकल कर रचनाओं में बदलने लगे. जो भी हुआ, आज मैं अपने गुरुदेवों को खूब याद करता हूँ .
---



Monday, August 1, 2016

प्रियदर्शन की कहानियाँ

प्रियदर्शन की कहानियाँ महानगरीय परिवेश की होने के बावजूद व्यवस्था को इस तरह से सामने रखती हैं कि सर्वव्यापी लगती है . कथा कथन का अंदाज सीधा पाठक को जोड़ लेता है. शीर्षक कहानी बारिश, धुंवा और दोस्त २४ की उन्मुक्त लड़की और ४२ वर्षीय पुरुष के बीच अपरिभाषित संवेगों को बहुत खूबसूरती से चित्रित करती है . शैफाली चली गई और सुधा का फोन स्त्री मन को अच्छे से पढ़ती हैं. वहीँ घर चले गंगा जी, थप्पड़, बांये हाथ का खेल और उठते क्यों नहीं कासिम  भाई कहानियाँ अपने  चरित्रों के साथ न्याय ही नहीं करती सोचने पर भी विवश करती हैं . प्रियदर्शन की भाषा सरल और आत्मीयता से भरी है जो पाठक को कहानी के प्रवाह में आसानी से ले लेती है. जहां सिस्टम की खामियां आयीं हैं वहाँ भाषा में व्यंग्य का पुट दिखाई देता है. निसंदेह प्रियदर्शन का यह संग्रह न केवल सामान्य पाठकों के बीच बल्कि सहित्य समाज में भी सम्मान प्राप्त करेगा. 

कहानी संग्रह ‘शब्द’ -- बसंत त्रिपाठी

कहानी संग्रह शब्द बसंत त्रिपाठी को एक गंभीर कथाकार के रूप में हमसे परिचित करवाता है. इन कहानियों में समकालीन परिवेश और परिस्थितियों का अच्छा चित्रण है. शैली थोड़ी क्लिष्ट है जो सामान्य पाठक को संभवतः कठिन लगे. कुछ कहानियों में बसंत त्रिपाठी ने परिवेश चित्रण को इतना सूक्ष्म और विस्तारित कर दिया है कि वह गैरजरुरी सा लगने लगता है. हालाँकि संग्रह में उनकी कुछ छोटी कहानियाँ भी बहुत अच्छी हैं, जैसे पिता, अंतिम चित्र और पन्द्रह ग्राम वजन. शीर्षक कहानी शब्द चलन से बहार हो रहे शब्दों को लेकर एक फंतासी में बुनी गई अच्छी रचना है. बसंत त्रिपाठी जो विषय उठाते हैं वह उनके सोच और दृष्टि को दूसरों से भिन्न साबित करती है. कहन शैली में मार्मिकता तो है ही, चिंतन और चिंता भी है. भाषा में कहीं कहीं व्यंग्य और चुटीलापन भी देखने को मिलता है.