Tuesday, October 26, 2010

* हमारे विभीषण और भस्मासुर !




          पिछले दिनों कश्मीर के भारत में विलय पर सवाल उठाकर विवाद खड़ा करने वाली अरुंधति रॉय ने श्रीनगर में एक सेमिनार के दौरान कहा है कि कश्मीर कभी भी भारत का अभिन्न अंग नहीं रहा है.  दिल्ली में कश्मीर पर हुए उस सेमिनार में भी अरुंधति मौजूद थीं, जिसको लेकर काफ़ी बवाल मचा था. कश्मीरी अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी पर देशद्रोह का मुक़दमा चलाने की मांग उठी थी.
        लेकिन रविवार को एक बार फिर अरुंधति रॉय ने सेमिनार में कश्मीर के भारत का अभिन्न अंग होने पर ही सवाल उठा दिया कि कश्मीर कभी भी भारत का अभिन्न अंग नहीं रहा है. यह ऐतिहासिक तथ्य है. भारत सरकार ने भी इसे स्वीकार किया है
श्रीनगर में आयोजित इस सेमिनार का विषय था- मुरझाया कश्मीर: आज़ादी या दासता. इस सेमिनार का आयोजन किया था 'कोअलिशन ऑफ़ सिविल सोसाइटीज़' ने.

                  अरुंधती राय का उक्त बयान चौकाने वाला है . कश्मीर की समस्या को जिस तरह उन्होने लिया है 
वो अलगाववादियो की समझ और भाषा है . कोई भी प्रांत या राज्य के कुछ लोग किन्हीं भी कारणों 
को लेकर अलगाववादी राजनीति करने लगेंगे तो क्या पचास साठ साल बाद उनका समर्थन किया जाना चाहिए ? इतिहास के मायने क्या है ? इतिहास को उसकी पूर्णता के साथ देखा जाना चहिए . अखंड भारत की सीमा कहाँ तक थी सबको पता है . उसमे कश्मीर भारत का हिस्सा था या नहीं यह किसी अनपढ़ को भी बताने की ज़रूरत नही है . राजनीति को छोड़ दिया जाए तो कश्मीर का इतिहास उसकी माटी , संस्कृति और कश्मीरी पंडितों से भी जाना जा सकता है .
                     यदि देश अलगाववादियो की सुनता रहे तो समस्या किस सूबे मे नहीं है ! कल नक्सलवादियो की माँग आ जाएगी अलग होने की तो लोग उसे भी जस्तीफई करने लगेंगे ! देश को टुकड़ों मे विभाजित होने मे देर लग़ेगी क्या ? देश के नागरिक देश को जोड़ने के लिए है . इसकी एकता को चोट पहुँचना देशद्रोह है . 


                 कुछ लोग अपने को बुद्धिजीवी  मानने लगते है और न्याय की लड़ाई  के नाम पर खुद अपनी लड़ाई लड़ने लगते हैं . चाहे वो कितनी छोटी क्यों ना हो . भारत मे बोलने की आज़ादी है तो क्या इस आज़ादी के दुरुपयोग की छूट भी मिली हुई है ! भस्मासुर को देश बर्दाश्त करेगा क्या ? हमारे बीच मे पल रहे विभीषणों को हम माला पहनाते रहेंगे !! यह कट्टरवाद की भाषा नही है , अस्तित्व रक्षा की भाषा है . अलगाववादियो को अंधे बुद्धिजीवी चाहिए जो न्याय के नाम पर उनकी बेजा माँगो का समर्थन कर सकें . 

1 comment:

  1. अरुंधती राय ने कितना इतिहास पढ़ा है? वे कितना जानती हैं राष्ट्र की प्रभुसत्ता का अर्थ? यह विचारणीय प्रश्न हैं. अभी तक अरुंधती के बारे में जो सम्मान था वह उनके इस बयान से धूल-धानी हो गया. व्यक्ति को अभिव्यक्ति की जो स्वतंत्रता है - उसकी मर्यादा भी वे भूल गयी हैं.
    इस बदनाम वक्तव्य से वे चर्चा के केंद्र में ज़रूर आ गयी हैं. उनका यह बयान राजद्रोह की श्रेणी में आता है.

    ReplyDelete