Tuesday, July 17, 2012

* दिल है कि मानता नहीं .

                      विश्वबिहारी जी के यहाँ बेटी की सगाई का प्रसंग आया . जरुरी था कि पास -पडौस और नातेदारों को इस अवसर पर आमंत्रित  किया जाये और भोजन व्यवस्था भी हो . वे खुद अनेक जगह आमंत्रित होते रहे हैं किन्तु भोजन कहीं नहीं करते हैं . होटल का खाना भी वे नहीं खाते हैं . वजह साफ सफाई को लेकर है . आयोजनों में बनाने वाले पसीने में गंधाते कर्मचारी , उनके वस्त्र ,  बर्तन  वगैरह सब चिकट और अस्वच्छ होते हैं . सामग्री को लेकर भी आश्वस्त नहीं हुआ जा सकता है .घर में पत्नी सब्जी को ठीक से धो कर , नमक के पानी में आधा -एक घंटा रखती है तब बनाने के लिए काटती है . यहाँ केटरर पोटली से सब्जी सीधे बिना देखे  भाले काट  कर  छौंक देता है . न घी तेल की कोई गारंटी , न आटे - मैदे की . जहाँ रसोई बनती है वहां कचरा और गीलापन होता है . मक्खियों की भरमार इतनी कि पता नहीं चलता कि खाद्य सामग्री है या मक्खियों का छत्ता . इन्हीं कारणों से विश्व बिहारी नहीं खाते हैं .

                   आज उनके पास अवसर है, वे जिस तरह की व्यवस्था को नापसंद करते हैं , उसे सुधार सकते हैं । लेकिन छोटा परिवार , कोई भगदौड़ करने वाला नहीं है । नातेदारों में कुछ हैं , किन्तु सब व्यस्त हैं । न-न करते भी तीन सौ मेहमान हो रहे हैं । घर में व्यवस्था हो नहीं सकती और होटल बजट को अंगूठा दिखा रही है । पांच दिनों की उहापोह के बाद आखिर एक केटरर को विथ -मटेरियल तय किया । रेट उसने बताया था चार सौ रुपए प्रति प्लेट । लेकन बोला कि सौ रुपए प्रति प्लेट में भी कर सकता है । तमाम तरह की हिदायतों के बाद सौदा एक सौ पचहत्तर रुपए प्रति प्लेट पर ठहरा । घर के सामने की सड़क पर शामियाना तान कर व्यवस्था हुई, जिसके एक कोने में आड़ करके भोजन बनाने की जगह निकाली गई । विश्व  बिहारी वह सब  देख रहे थे जो देखना पसंद नहीं करते हैं ।
मेहमान आए , सबने निर्विकार भाव से आनंद लिया, जैसा कि हर जगह होता है । दो घंटे में सारे कार्यक्रम निबट गए ।
सब के जाने के बाद विश्व  बिहारी अंदर अपने किचन में  आम के अचार के साथ सुबह की रोटियां खा रहे थे ।

                                                                         ______

3 comments:

  1. अच्‍छी रही कहानी विश्‍व बिहारी जी की ..

    इस समाज में ऐसे बहुत सारे लोग मिल जाएंगे ..

    समग्र गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष

    ReplyDelete
  2. har ghar me ek vishwabihariji hain

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete