Wednesday, January 6, 2010

* उपेक्षित न रहें लेखक

प्रख्यात साहित्यकारों की बीमारी और आर्थिक तंगी का समाचार लेखक समाज के लिये प्रायः चिंता का विषय बनते रहे हैं । पिछले दिनों श्री विष्णु प्रभाकर के अकेलेपन और अन्य कठिनाइयों का समाचार था । श्री अमरकांत , श्री त्रिलोचन भी ऐसी स्थितियों से गुजरे । हिन्दी के अनेक साहित्यकार इनदिनों आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं जिनकी खबर सामने नहीं आ पाई है । यह सब उस समय है जबकि हिन्दी का प्रकाशन व्यवसाय फलफूल रहा है । पुस्तक मेलों के आयोजन हो रहे हैं और उनमें लोगों की भीड़ उमड़ रही है , पुस्तकें बिक रही हैं , पत्र-पत्रिकाएं चल रहीं हैं , पढ़ने वाले बढ़े हैं लेकिन हिन्दी लेखकों की हालत खराब है । प्रकाशकों, पुस्तक विक्रेताओं के संगठन हैं , पत्र-पत्रिकाओं के भी संगठन हैं जो अपन हितों के लिये संवाद या संघर्ष करते हैं । उनकी आवाज है जो कहीं न कहीं उनके पक्ष में माहौल बनाती है लेकिन लेखकों का ऐसा कोई संगठन नहीं है । जलेस, प्रलेस जैसे कुछ संगठन हैं भी तो वे अपने मत/मक्सद के आगे बीन बजाने में व्यस्त रहते हैं । लेखक अक्सर इनमें इस्तेमाल हो कर गुम हो जाता हैं । स्थानीय स्तर पर कुछ ‘ वाह-वाह ’ नुमा संगठन होते हैं जो प्रायः रचनापाठ वाले आयोजनों के बाद अपनी थकान उतार कर दूसरे आयोजन की तैयारी में लग जाते हैं । स्वयं लेखकों में भी यह चिंता नहीं होती कि अपने अंतिम संघर्ष पूर्ण दिनों के लिये वे कुछ करें । जब तक सब ठीक चलता है वे चलाते रहते हैं । हालांकि यह भी सही है कि लेखक से दुनियादार होने की उम्मीद करना भी उचित नहीं है । यों भी श।यर , सिंह और सपूत लीक छोड़ कर चलने वाले होते हैं । लेखन हमारे यहां एक केरियर की तरह नहीं है । वैसे तो शो- बिजनेस में आर्डर पर गीत, कहानियां या संवाद लिखने वाले हैं किन्तु गंभीर और स्तरीय लेखन से बाजार अपनी पीठ फेर लेता है । प्रेमचंद , अमृतलाल नागर , हरिकृष्ण प्रेमी, रेणू आदि अनेक नाम याद आ सकते हैं जिन्हें फिल्मी दुनिया ने तब लौटा दिया जब वहां बहुत कुछ स्तरीय घटित हो रहा था । लेकिन अब लेखन ‘ पार्ट टाइम जाब ’ मान लिया गया है । हमारा समाज लेखन को काम मानता ही नहीं है । लेखक की कोई जरुरत हो सकती है , या वह भी इंसान है , उसे भी हवा-दवा कुछ चाहिये , यह सोच में नहीं आता है । कोई छाप कर कुछ दे दे उसका भला , नहीं दे तो उसका भी भला ! सोचने वाली बात यह है कि लेखकों ने इस स्थिति को कभी जोरदार तरीके से मुद्दा नहीं बनाया । चर्चाए अवश्य होती रही हैं । प्रकाशन से जुड़े लोग कागज , स्याही ,बिजली , ए-सी, आफिस , विक्रेताओं के कमीशन आदि सब का भुगतान करते हैं लेकिन लेखक को दिया जाने वाले पारिश्रमिक को सम्मानजनक नहीं बना पाते हैं ! लेखक और किसान की स्थिति आज लगभग एक समान है । फर्क केवल इतना है कि लेखकांे की संख्या लोकतंत्र में हस्तक्षेप करने लायक नहीं है । संख्याबल पर आधारित आज हमारे लोकतंत्र का जो स्वरूप है उसमें यह उम्मीद करना ज्यादती होगी कि लेखक अपनी रचनाओं से उसे प्रभावित कर लेंगे । लेखकों के सर्वाधिक हितैषी वामपंथी दल अनेक मुद्दों पर सरकार की नाक में काड़ी करते रहते हैं लेकिन साहित्यकारों के मामले में चुप्पी लगाए रखते हैं । कांग्रेस से उम्मीद रखी जाती है किन्तु वे एक ‘ घर ’ से बाहर निकलें तो उन्हें कुछ सूझे ! अन्य दल तो खुद ही राम भरोसे हैं !!जाहिर है हिन्दी लेखकों को स्वयं् ही मिल कर कुछ करना होगा । पहल करने पर एक प्रभावी संगठन का निर्माण किया जा सकता है जो लेखकों के अर्थिक मुद्दों पर केन्द्रित हो । यदि लेखक का योगदान साहित्य में है, उसकी आयु साठ वर्ष , या जो भी तय की जाए, से अधिक है और यदि वो नियमित मानदेय वाले पद या पीठ पर आसीन नहीं है तो उसे मासिक पेंशन उपलब्घ कराई जाना चाहिये । इसके लिये हमें यह बताना होगा कि साहित्य समाज और संस्कृति के लिये महत्वपूर्ण कर्म है । जब सांसदों, विधायकों, अधिकारियों आदि को पेंशन दी जा रही है तो लेखकों को क्यों नहीं !? केन्द्र या राज्य के बजट में इसका प्रावधान किया जाना चाहिये । यदि राज्य प्रतिवर्ष कुछ करोड़ रूपयों का एक कोष निर्मित करें तो यह कार्य आसानी से किया जा सकता है ।

No comments:

Post a Comment